"चिकित्सा समाज सेवा है,व्यवसाय नहीं"

Friday, 31 January 2014

शहद और दालचीनी के उपयोग से इम्युन सिस्टम ताकतवर बनता है



शहद और दालचीनी से करें रोगों का निवारण ------- ____________________________________________________
 शहद और दाल चीनी के मिश्रण में मानव शरीर के अनेकों रोगों का निवारण करने की अद्भुत शक्ति है। दुनियां के करीब सभी देशों में शहद पैदा होता है। आज के वैग्यानिक इस तथ्य को स्वीकार कर चुके हैं कि शहद कई बीमारियों की अचूक औषधि है। वैग्यानिक कहते हैं कि शहद मीठा जरूर है लेकिन अगर इसे सही मात्रा में सेवन किया जावे तो मधुमेह रोगी भी इससे लाभान्वित सकते हैं।
* हृदय रोगों में उपयोगी है--- शहद और दालचीनी के पावडर का पेस्ट बनाएं और इसे रोटी पर चुपडकर खाएं। घी या जेली के स्थान पर यह पेस्ट इस्तेमाल करें। इससे आपकी धमनियों में कोलेस्टरोल जमा नहीं होगा और हार्ट अटेक से बचाव होगा। जिन लोगों को एक बार हार्ट अटेक पड चुका है वे अगर इस उपचार को करेंगे तो अगले हार्ट अटेक से बचे रहेंगे।
* इसका नियमित उपयोग करने से द्रुत श्वास की कठिनाई दूर होगी । हृदय की धडकन में शक्ति का समावेश होगा। जैसे-जैसे मनुष्य बूढा होता है, उसकी धमनियां और शिराएं कठोर हो जाती हैं। शहद और दालचीने के मिश्रण से धमनी काठिन्य रोग में हितकारी प्रभाव देखा गया है।
* संधिवात रोग-- संधिवात रोगी दो बडे चम्मच शहद और एक छोटा चम्मच दालचीनी का पावडर एक गिलास मामूली गर्म जल से लें। सुबह और शाम को लेना चाहिये।
* मूत्राषय का संक्रमण-- ब्लाडर इन्फ़ेक्शन होने पर दो बडे चम्मच दालचीनी का पावडर और एक बडा चम्मच शहद मिलाकर गरम पानी के साथ देने से मूत्रपथ के रोगाणु नष्ट हो जाते हैं।
* कोलेस्टरोल घटाने के लिये-- बढे हुए कोलेस्टरोल में दो बडे चम्मच शहद और तीन चाय चम्मच दालचीनी पावडर मिलाकर आधा लिटर मामूली गरम जल के साथ लें। इससे सिर्फ़ २ घंटे में खून का कोलेस्टरोल लेविल १० प्रतिशत नीचे आ जाता है। और दिन मे तीन बार लेते रहने से कोलेस्टरोल बढे हुए पुराने रोगी भी ठीक हो जाते हैं। *आमाषय के रोग-- शहद और दालचीनी के पावडर का मिश्रण लेने से पेट दर्द और पेट के अल्सर जड से ठीक हो जाते हैं।
* दालचीनी और शहद के प्रयोग से उदर की गैस का भी समाधान हो जाता है। 
* मुहासे--- तीन बडे चम्मच शहद और एक चाय चम्मच दालचीनी पावडर का पेस्ट बनाएं। रात को सोते वक्त चेहरे पर लगाएं। सुबह गरम जल से धोलें । दो हफ़्ते के प्रयोग से मुहासे समाप्त होकर चेहरा कांतिमान दिखेगा।
* त्वचा विकार-- दालचीनी और शहद समान भाग लेकर मिश्रित कर एक्ज़ीमा,दाद जैसे चर्म उद्भेद पर लगाने से अनुकूल परिणाम आते हैं। *प्रतिरक्षा तंत्र शक्तिशाली बनाता है-- शहद और दालचीनी के उपयोग से इम्युन सिस्टम ताकतवर बनता है। खून मे सफ़ेद कणों की वृद्धि होती है जो रोगाणु और वायरस के हमले से शरीर की सुरक्षा करते है। जीवाणु और वायरल बीमारियों से लडने की ताकत बढती है।

Friday, 24 January 2014

गुड़ और मूंगफली में गुण बहुत है






सर्दीके मौसम के खान-पान में गुड़ का अपना महत्व है। यह स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद होने के साथ ही स्वादिष्ट भी होता है। सर्दियों में गुड़ से बनाई गई खास सामग्री बच्चों और बुजुर्गों सबको अच्छी लगती है। इस मौसम में गुड़ का नियमित सेवन करने से सर्दी से होने वाले रोगों से बचा जा सकता है। आयुर्वेद संहिता के अनुसार यह शीघ्र पचने वाला, खून बढ़ाने वाला व भूख बढ़ाने वाला होता है। इसके अतिरिक्त गुड़ से बनी चीजों के खाने से इन बीमारियों में राहत मिलती हैः

- गुड़ के साथ पकाए चावल खाने से बैठा हुआ गला व आवाज खुल जाती है।

- बाजरे की खिचड़ी में गुड़ डालकर खाने से नेत्र-ज्योति बढ़ती है।

- गुड़, सेंधा नमक, काला नमक मिलाकर चाटने से खट्टी डकारें आना बंद हो जाती हैं।

*तिल-गुड़ के लड्डू खाने से मासिक धर्म का रक्त निर्बाध गति से बहता है तथा दर्द में आराम मिलता है।

*सर्द ऋतु में गुड़ और काले तिल के लड्डू खाने से ज़काम, खाँसी, दमा, ब्रांकाइटिस आदि रोग दूर होते हैं।
 
 * ठंड के दिनों में तिल्ली के साथ इसका सेवन करने से ठंड का मुकाबला करने की ताकत आती है। 
ठंड में मेवे के लड्डुओं में भी शकर के बजाय गुड़ मिलाइये। शकर तो सफेद जहर है। गुड़ पीला अमृत है। शकर को साफ करने के चक्कर में इसका प्राकृतिक केल्शियम नष्ट हो जाता है। गुड़ में यह मौजूद रहता है। पुराना गुड़ अधिक अच्छा माना जाता है। लेकिन अगर पुराना गुड़ न मिले तो नए को ही कुछ देर धूप में रखने से वह पुराने की तरह गुणकारी हो जाता है।
-भोजन के पश्चात नित्य गुड़ की एक डली मुँह में रख कर चूसने से पाचन अच्छा होता है। साथ ही वायुविकार अर्थात गैसेस से भी मुक्ति मिलती है। एसिडिटी नहीं होती।
-चीनी की चाय की जगह गुड़ की चाय अधिक स्वास्थ्यकर मानी जाती है।
-250 ग्राम कच्चा पीसा जीरा और 125 ग्राम गुड़ को मिला कर इसकी गोलियाँ बना लें। दो-दो गोली नित्य दिन में तीन बार खाने से मूत्र विकार में लाभ मिलता है। जैसे मूत्र नहीं होना, मूत्र में जलन आदि।
-रक्तविकार वालों को गुड़ की चाय, दूध के साथ गुड़ या गुड़ की लस्सी पीने से लाभ होता है।
-बीस ग्राम गुड़ और एक चम्मच आँवले का चूर्ण नित्य लेने से वीर्य की दुर्बलता दूर होती है और वीर्य पुष्ट होता है।
-गुड़ और शुद्ध घी मिला कर खाने से शरीर तगड़ा होता है। इससे रक्तविकार और रक्तपित्त नहीं होता।
-एसिडिटी वालों को रोज प्रातःकाल थोड़ा सा गुड़ चूसना चाहिए। -ठंड के दिनों में गुड़, अदरक और तुलसी के पत्तों का काढ़ा बना कर गर्मागर्म पी
ना अच्छा रहता है। यह सर्दी-जुकाम से बचाता है।


 ****************************************************

मूंगफली- यह मटर, सेम, बीन्स जैसे फली परिवार से जुड़ी हुई है और हर उम्र के लोगों की पसंदीदा है। कुरकुरे स्वाद और गर्म तासीर वाली मूंगफली अपने पोषक तत्वों के कारण बादाम के समकक्ष ठहरती है और स्वास्थ्य के लिए उपयोगी है। सर्दियों में आसानी से उपलब्ध होने और किफायती होने की वजह से कुछ लोगों ने तो इसे ‘गरीबों का काजू’ की उपाधि दी है। भुनी हुई, कच्ची, उबाली हुई, तली हुई या रोस्टिड, टेंगी, मसालेदार मूंगफली सड़क के किनारे, बस स्टैंड, लोकल ट्रेन, मॉल-बाजार हर जगह आसानी से मिल जाती है। इसी वजह से यह ‘टाइम पास‘ नाश्ते के रूप में भी मशहूर है। विभिन्न रूपों में खाई जाने वाली यह दानेदार मूंगफली न केवल पौष्टिक तत्वों का खजाना है, बल्कि अपने गुणों की वजह से हमारे स्वास्थ्य के लिए हितकर भी है। यह प्रोटीन, कैलोरीज, विटामिन बी, ई, तथा के, मिनरल्स, कैल्शियम, नियासिन,जिंक का अच्छा स्त्रोत है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट तत्व कई बीमारियों से हमारे शरीर की रक्षा करने में सक्षम हैं।
 कुपोषण से लड़ने में मदद विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूनिसेफ जैसी संगठनों ने अपने अध्ययनों से यह साबित किया है कि मूंगफली में मौजूद पोषक तत्व कुपोषण के शिकार बच्चों को बचाने में मदद करते हैं।
* मुट्ठी भर मूंगफली दूध, घी और सूखे मेवों की आपूर्ति करती है। *100 ग्राम कच्ची मूंगफली में 1 लीटर दूध के बराबर प्रोटीन होती है। इसमें प्रोटीन की मात्रा 25 प्रतिशत से भी अधिक होती है, जबकि मांस, मछली और अंडों में यह 10 प्रतिशत से अधिक नहीं होती।
* मूंगफली के 250 ग्राम मक्खन से 300 ग्राम पनीर, 2 लीटर दूध या फिर 15 अंडों के बराबर ऊर्जा आसानी से मिल सकती है। यही नहीं, *250 ग्राम भुनी मूंगफली में जितने खनिज और विटामिन मिलते हैं, उतने 250 ग्राम मांस में भी प्राप्त नहीं होते।
 सेवन में सावधानियां :
मूंगफली को पूरी तरह चबा कर खाना चाहिए, क्योंकि इसे पचाने में दिक्कत होती है। इससे पेट दर्द या एसिडिटी की शिकायत हो सकती है।
* अस्थमा, पीलिया या पेट में गैस बनने की शिकायत होने वाले व्यक्तियों को मूंगफली के सेवन से बचना चाहिए।
* इसके अलावा मूंगफली के सेवन से होंठ, गले और सीने में जलन हो या सांस लेने में दिक्कत हो-ऐसे व्यक्तियों को भी मूंगफली नहीं खानी चाहिए।
* मूंगफली पोषक तत्वों से भरपूर है, फिर भी एक वयस्क व्यक्ति को रोजाना 50-80 ग्राम से ज्यादा मूंगफली का सेवन नहीं करना चाहिए, अन्यथा आप मोटापे जैसी बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। 
*सौंदर्य बढ़ाए मूंगफली के निरंतर उपयोग से त्वचा को पोषण मिलता है और त्वचा मुलायम होती है।
* सर्दियों में त्वचा में सूखापन आने पर थोड़े-से मूंगफली के तेल में दूध और गुलाबजल मिलाकर मालिश करके स्नान करने से आराम मिलता है। 
*होंठ फटने पर चौथाई चम्मच मूंगफली का तेल लेकर अंगुली से हथेली पर रगड़ें। इस तेल से होठों की मालिश करने से लाभ मिलता है।
* मूंगफली के तेल में नींबू का रस मिलाकर पिंपल्स पर लगाने से आराम मिलता है। कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करे कैंसर को रोकने में मददगार जन्म दोष के जोखिम को कम करने में सक्षम पथरी की रोकथाम में सहायक ब्लड शुगर को कंट्रोल करती है दिल की रक्षा करने में सहायक मधुमेह के रोगियों के लिए एक स्वस्थ नाश्ता बॉडी बिल्डिंग में रुचि रखने वालों के लिए वरदान है बढ़ती उम्र के प्रभावों को कम करे दांतों और हड्डियों के स्वास्थ्य में मददगार पेट संबंधी बीमारियों के इलाज में उपयोगी वायु संबंधी बीमारियों को कम करने में सहायक है।

Saturday, 11 January 2014

Health Benefits of Cucumber



We used to think that cucumber is too “cooling” for the bones. On the contrary, cucumber really helps counter inflammation in joints by removing the uric acid crystallization.

Description
The cucumber is a type of melon and comes from the same family as watermelon, zucchini and other squash. It is cylindrical in shape with lengths of approximately 6 to 9 inches.
Its skin is very similar to watermelon, ranges from green to white. Inside, the flesh is pale green and very juicy.
The cucumber is a tropical plant but is also easily available in most part of the world. However, in some cultures, cucumber is more often used to make pickles, of which most of its nutrients would have been lost.


Nutritional Benefits
Cucumber has an impressive amount of water (about 96%) that is naturally distilled, which makes it superior to ordinary water. Its skin contains a high percentage of vitamin A, so should not be peeled off.
The cucumber contains alkaline-forming minerals and is an excellent source of vitamin C and A (anti-oxidants), folate, manganese, molybdenum, potassium, silica, sulfur, and lesser amounts of vitamin B complex, sodium, calcium, and phosphorus.
You have seen beauty practitioners use slices of cucumber on their eyes. It is found that the caffeic acid in this vegetable helps to prevent water retention and when applied topically, helps reduce puffy and swollen eyes.

Health Benefits
Most people are unaware of the immense health benefits of cucumber and would avoid eating cucumber where possible. Fresh cucumber may taste “bland” to some but its thirst-quenching and cooling properties are refreshing. It acts as an anti-oxidant when taken together with fried and barbequed foods.
I like to mix cucumber juice with carrot or orange juices.
Here’s a list of health benefits of cool cucumber:
Acidity:  The alkalinity of the minerals in cucumber juice effectively helps in regulating the body’s blood pH, neutralizing acidity. The juice is also soothing for the treatment of gastric and duodenal ulcers.
Blood pressure:  Like celery, this colorless drink can help regulate blood pressure because of its minerals and traces of sodium.
Connective tissues, building:  The excellent source of silica contributes to the proper construction of connective tissues in our body as in the bones, muscles, cartilage, ligaments and tendons.
Cooling:  During dry and hot weather, drink a glass of cucumber + celery juice. It wonderfully helps to normalize body temperature.
Diuretic:  Cucumber juice is diuretic, encouraging waste removal through urination. This also helps in the dissolution of kidney stones.
Fever:  The temperature regulating properties in cucumber juice makes it a suitable drink when you have a fever.
Inflammation:  The Chinese think that cucumbers are too “cooling” and not suitable for people with rheumatism. But we know now that cucumber can help counter uric acids that are causing inflammation in joints. When cucumber is taken it does its cleaning work at the joints, thus stirring up pain as it eliminates the uric acid. This means it also help other inflamed conditions like arthritis, asthma, and gout.
Hair growth:  The silicon and sulfur content in cucumber juice makes it especially helpful in promoting hair growth. Drink it mixed with carrot, lettuce or spinach juice.
Puffy eyes:  Some people wake up in the morning with puffy eyes, probably due to too much water retention in the body (or having cried to sleep). To reduce the puffiness, lie down and put two slices of cucumber on the eyes for a good ten minutes.
Skin conditions:  The high amount of vitamin C and anti-oxidants in cucumber makes it an important ingredient in many beauty creams for treating eczema, psoriasis, acne, etc.
Sunburn:  When there is a sunburn, make cucumber juice and rub it on the affected area for a cooling and healing effect.
Water retention: It supplies the necessary electrolytes and restores hydration of the body cells, thus reducing water retention.


Consumption Tips
Choose cucumbers that are dark green in color and firm to the touch. Avoid those that are yellowish or are wrinkled at either ends. Thinner cucumbers have fewer seeds than those that are thicker.
Store cucumbers in the fridge to retain its freshness. Cut cucumbers should be kept wrapped up or in an air-tight container and kept in the fridge. Consume within a day or two.

Caution
Where possible, buy organic as cucumbers may be waxed or have pesticides.

साभार :

www.juicing-for-health.com/health-benefits-of-cucumber.html 

Thursday, 9 January 2014

छोटे लहसुन के बड़े फायदे

::::::::::::कुछ नुस्खे: छोटे लहसुन के बड़े फायदे:::::::::::
=================================
लहसुन सिर्फ खाने के स्वाद को ही नहीं बढ़ाता बल्कि शरीर के लिए एक औषधी की तरह भी काम करता है।इसमें प्रोटीन, विटामिन, खनिज, लवण और फॉस्फोरस, आयरन व विटामिन ए,बी व सी भी पाए जाते हैं। लहसुन शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाता है। भोजन में किसी भी तरह इसका सेवन करना शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होता है,
आज हम बताने जा रहे हैं आपको औषधिय गुण से भरपूर लहसुन के कुछ ऐसे ही नुस्खों के बारे में जो नीचे लिखी स्वास्थ्य समस्याओं में रामबाण है:-----------------

@इन बीमारियों में है रामबाण@
---------------------------------
1-- 100 ग्राम सरसों के तेल में दो ग्राम (आधा चम्मच) अजवाइन के दाने और आठ-दस लहसुन की कुली डालकर धीमी-धीमी आंच पर पकाएं। जब लहसुन और अजवाइन काली हो जाए तब तेल उतारकर ठंडा कर छान लें और बोतल में भर दें। इस तेल को गुनगुना कर इसकी मालिश करने से हर प्रकार का बदन का दर्द दूर हो जाता है।
2-- लहसुन की एक कली छीलकर सुबह एक गिलास पानी से निगल लेने से रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रित रहता है।साथ ही ब्लडप्रेशर भी कंट्रोल में रहता है।
3-- लहसुन डायबिटीज के रोगियों के लिए भी फायदेमंद होता है। यह शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में कारगर साबित होता है।
4-- खांसी और टीबी में लहसुन बेहद फायदेमंद है। लहसुन के रस की कुछ बूंदे रुई पर डालकर सूंघने से सर्दी ठीक हो जाती है।
5-- लहसुन दमा के इलाज में कारगर साबित होता है। 30 मिली लीटर दूध में लहसुन की पांच कलियां उबालें और इस मिश्रण का हर रोज सेवन करने से दमे में शुरुआती अवस्था में काफी फायदा मिलता है। अदरक की गरम चाय में लहसुन की दो पिसी कलियां मिलाकर पीने से भी अस्थमा नियंत्रित रहता है। 6-- लहसुन की दो कलियों को पीसकर उसमें और एक छोटा चम्मच हल्दी पाउडर मिला कर क्रीम बना ले इसे सिर्फ मुहांसों पर लगाएं। मुहांसे साफ हो जाएंगे।
7-- लहसुन की दो कलियां पीसकर एक गिलास दूध में उबाल लें और ठंडा करके सुबह शाम कुछ दिन पीएं दिल से संबंधित बीमारियों में आराम मिलता है।
8-- लहसुन के नियमित सेवन से पेट और भोजन की नली का कैंसर और स्तन कैंसर की सम्भावना कम हो जाती है।
9-- नियमित लहसुन खाने से ब्लडप्रेशर नियमित रहता है। एसीडिटी और गैस्टिक ट्रबल में भी इसका प्रयोग फायदेमंद होता है। दिल की बीमारियों के साथ यह तनाव को भी नियंत्रित करती है।
10-- लहसुन की 5 कलियों को थोड़ा पानी डालकर पीस लें और उसमें 10 ग्राम शहद मिलाकर सुबह -शाम सेवन करें। इस उपाय को करने से सफेद बाल काले हो जाएंगे।
11- यदि रोज नियमित रूप से लहसुन की पाँच कलियाँ खाई जाएँ तो हृदय संबंधी रोग होने की संभावना में कमी आती है। इसको पीसकर त्वचा पर लेप करने से विषैले कीड़ों के काटने या डंक मारने से होने वाली जलन कम हो जाती है।
12- जुकाम और सर्दी में तो यह रामबाण की तरह काम करता है। पाँच साल तक के बच्चों में होने वाले प्रॉयमरी कॉम्प्लेक्स में यह बहुत फायदा करता है। लहसुन को दूध में उबालकर पिलाने से बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। लहसुन की कलियों को आग में भून कर खिलाने से बच्चों की साँस चलने की तकलीफ पर काफी काबू पाया जा सकता है।
13- लहसुन गठिया और अन्य जोड़ों के रोग में भी लहसुन का सेवन बहुत ही लाभदायक है। लहसुन की बदबू- अगर आपको लहसुन की गंध पसंद नहीं है कारण मुंह से बदबू आती है। मगर लहसुन खाना भी जरूरी है तो रोजमर्रा के लिये आप लहसुन को छीलकर या पीसकर दही में मिलाकर खाये तो आपके मुंह से बदबू नहीं आयेगी।
+++लहसुन खाने के बाद इसकी बदबू से बचना है तो जरा सा गुड़ और सूखा धनिया मिलाकर मुंह में डालकर चूसें कुछ देर तक, बदबू बिल्कुल निकल जायेगी।